Wednesday, May 30, 2007

मैं और वह

मैं और वह

मैं अज्ञ
वह सर्वज्ञ
फिर भी वह मेरे साथ साथ चला
ठीक रेल की पटरियों की नाईं
साथ साथ लेकिन पृथक
मैने तो जिन्दगी के तमाम रंग सेये
कभी हर्ष से हरा हुआ
कभी अवसाद से पीला
कभी जीत के उन्माद में
पेड़ों से उंचा उठा
कभी हार के उत्ताप उत्ताप से तिनके सा नीचे झुका
उसने देखा मेरी जिन्दगी को
चलचित्र की नाईं
और निर्विकल्प
अपने ज्ञान चक्षुओं से सिर्फ मुझे घूरता रहा
उसे पता था कि यह सारे रंग
ये सारे आकार तो पर्दे के नहीं Celluloid के हैं।
और पर्दे तो ये सिर्फ छायाओं का खेल है
और पर्दे पर भी इनका आस्तित्व
Hall के अन्धेरे के साथ ही जुड़ा है।
जिस दिन Hall उसकी रोशनी से जगमगाया
उसी दिन उसी क्षण
ये सारे रंग ये सारे आकार गायब हो जायेंगे
वह यह सब जानता था
और मैं इन सबसे अनभिज्ञ
कभी हँसा कभी रोया
वह तो यह भी जनता था कि
अगर मैं और वह मिल गये
तो यात्रा तुरन्त समाप्त हो जायेगी
मैं विमूढ़ बस सिर्फ साथ साथ चलता रहा

1 comment:

परमजीत बाली said...

कुलदीप जी,अच्छी रचना है।बधाई।