Monday, June 03, 2013

VISITING CARD




एक अनजानी व अनचिन्ही सी मंजिल
बस मन में एक जुनून
और अनवरत
यथास्थिति से बाहर निकलने की कसमसाहट
साथ ही पांवों की ताकत को मापने की इच्छा,
कब से मन भी तो कह रहा था कि
नहीं यह तेरी मंजिल तो नहीं
महज् इसी हौसले की बिना पर
ढुंढना है मुझे एक नया क्षितिज
राह व दिशा से भले ही अनभिज्ञ
मुझे तलाशनी है
मेरे इस Visiting Card के बाहर की दुनिया
इस उम्मीद में कि
शायद वहां मेरी शख्सियत
किसी अवलम्ब की मोहताज न हो।

इस क्षाणिक मैं कौन हूं से
स्थायी मैं क्या हूं की पहचान का सफर
सफर के आदि व अन्त यथा शून्य से अनन्त
एक यथेष्ट Centripetal Force की आवश्यकता
जो पर्याप्त हो कौन या Visiting Card 
के गुरुत्वाकर्षण शक्ति को भेदने में
प्रयास रत हूं इसी उर्जा के संग्रहण में  
ऐसी उर्जा जो प्रक्षेपण कर फेंक दे
कौन के वातानुकुलित कक्ष से
मुझे क्या के व्यापक व्योम में।
   



2 comments:

Barun K Sakhajee said...

बहुत बढिय़ा जनाब। अच्छी लाइन है मुझे तलाशनी है मेरे इस विजिटिंग कार्ड से बाहर की दुनिया।

KrRahul said...

मार्मिक...