Friday, May 07, 2010

Communalism and Virus

I do not remember whether I wrote it or got it from somewhere.It was lying in my Hard Disk,what a waste. So sharing it.
Computer Virus and Communalism

साम्प्रदायिकता भी Computer Virus की भांति समाज के चाहे अनचाहे,जाने अनजाने समाज में घर करती जा रही है। कम्प्यूटर वाईरस भी user के अनचाहे, अनजाने में ही क्म्प्यूटर में घर कर लेता है। इस रोग के लिये एड्स की नाईं physical contact की आवश्यकता भी नहीं है। ठीक Virus की तरह सामाजिक अन्तरजाल या internet के मार्फत से किसी प्रदूषित कम्प्यूटर से सम्बन्ध स्थापित होते ही यह Virus अपनी एक प्रतिलिपि Host कम्प्यूटर की “सी” ड्राईव में तैयार कर उसके मानस को विक्षिप्त (Corrupt) कर देता है। यह सम्बन्ध साक्षात्कार से हो सकता है,या वाह्य मीडिया यथा CD/USB/Floppy की नाईं पुस्तक,साहित्य, प्रवचन किसी से भी हो सकता है।
ठीक computer virus की भांति इसमें हर उस System को दूषित करने की अदम्य क्षमता होती है,जो भी इसके सम्पर्क में आता है।
अक्सर “ट्राजन” के सम यह बिलकुल निर्दोष सी दिखने वाली जानकारी की तरह प्रवेश द्वार में सेंध लगाता है। हम एक उपयोगी जानकारी मान अपने कम्प्यूटर की “सी” ड्राईव में इसे डाउनलोड कर लेते हैं। आहिस्ते आहिस्ते यह “ट्राजन” हमारे मानस की “सी” ड्राईव में मौजुद फाइलों या विचारों को अपने घेरे में ले उन्हें अपने ही रंग में रंग देता है।
जब तक पता चलता है तब तक देर हो चुकी होती है। निदान स्वरुप हम अलग अलग एन्टी वाईरस या पुलिस या सी बी आई से स्कैन करवाते हैं,लेकिन समस्या ज्यों की त्यों बनी रहती है।हम जानते हैं कि इसका निदान अन्तिम Formatting के द्वारा ही सम्भव है। खर्च या समय के अभाव में हम इसे कुछ समय तक टाल कर काम चलाते रहते हैं। कम्प्यूटर अपनी आधी क्षमता पर काम कर रहा होता है।
आज भी समाज के ठेकेदारों को समझना होगा कि आज के सन्दर्भ में इसका निदान सम्पूर्ण क्रान्ति या Formatting के द्वारा ही सम्भव है।
HTML Hit Counter
HTML Hit Counter

8 comments:

महफूज़ अली said...

Very Good...

kochi said...

i have read only the beginning as yet....but arent there antivirus for computers? so why dont we strengthen that?

kochi said...

right kuldip...'formatting' is the answer...but who is going to do that??????

KrRahul said...

Mujhe lagta hai jis cheej se hum jyada darte hain; woh hame naye roop me pareshan karne ata hai. Sampradayikta ko hum aisi jagahon me bhi dekhte hain jahan woh ya to nahi hai, ya fir achche karnon se hai. Mujhe nahi malum ki kaise jin dino (hazaaron salon tak) hindustan par musalmanon ka shashan chal raha tha - un dino sampradayikta nahi thi? Ya jab christian padri sadak par khade ho kar hindu devi devtaon ko galiyan dete the (jaisa ganddhi ji ne apne autobiography me likha hai), un dino sampradayikta nahi thi? Ya jab 1946-47 me jab dharm ke naam par desh bana, to sampradayikta nahi thi? Kai logon ke liye sampradayikta tabhi sampradayikta kahlati hai jab ya to ek Hindu apne dharma ke paksha me bolta hai, ya fir koi BJP ka leader kuchh bhi bolta hai.

Sampradayikta se jyada khatarnak hai - kshetrawaad - regionalism...

KrRahul said...

Aur communalism ke sandarbha me formatting ka matlab kya hai, ye hum guess kar sakte hain. Virus tab tak ate rahenge jab tak minority appeasement ki rajniti chalti rahegi. Aur hum apne desh ka itihas bhi nahi badal sakte, jiske karan hazaron Ayodhya jaise cases pade hue hain. To aise me formatting karne ka matlab kuchh khatarnak kaam karna hai... jo ki na to theek hai, na hi possible hai..

kuldip said...

Communalism or sampradayikta me hindu aur muslim ka prashna nahi aata hai.Har jo vyakti doosare se sampraday ke nam par bhed karata hai,voh doshi hai.shesh blog to sirph laffaji hai computer terms ke marfat ek aalekh prastut kiya hai.

kochi said...

some things/people/words are soooooooooooo predictable ..siggggggggggh ! kya hoga mere India ka ??? Communalism toh kai logo me koot koot kar bhari hai..and now certain sections say that Hinduism is secularism!

SAMVEDNA said...

its quite appealing satire to the political stupidity that we face in daily life.good keep it up